Essay on lifestyle in lockdown| essay on new normal after coronavirus| hindi essays

Essay on lifestyle in lockdown

Coronavirus and lifestyles - hindi

कोरोना के साथ भी, कोरोना के बाद भी

_Aditya Mishra Blogger

 Twitter: @voiceaditya


अभी हम एक ऐसे दौर से गुजर रहे हैं, जहां ना चाहते हुए भी हमें बहुत कुछ झेलना पड़ रहा है| कोरोनावायरस सिर्फ एक बीमारी नहीं, आफत बनकर हमारे सामने आ गया है| इसका असर सेहत पर पढ़ने के साथ-साथ हमारे आर्थिक, शैक्षणिक और सामाजिक परिवेश पर भी पड़ रहा है| सुरक्षा नियम और सावधानियों का पालन करके हम इस वायरस से बच सकते हैं| लेकिन अन्य क्षेत्रों में होने वाले नुकसान हमें काफी परेशान कर रहा है|
हर दिन लगभग 50% घरों में पेट भरने और जेब भरने के बीच जंग चलती रहती है|देश में लाखों-करोड़ों लोग ऐसे हैं जिनका रोजगार और कमाई का स्रोत खत्म हो गया है| लेकिन अभी भी भूख लगना खत्म नहीं हुआ| सरकारें तरह-तरह के इंतजाम कर रही हैं लेकिन उस इंतजाम की सूची में कई लोग नहीं आते| समस्या सिर्फ इतनी नहीं है इससे कहीं बढ़कर है| धीरे-धीरे चुपचाप बैठे लोग मानसिक रूप से कमजोर होते जा रहे हैं|  सकारात्मकता का कहीं भी स्थान नहीं रह गया है .ऐसे में, यह सोचना और समझना जरूरी हो जाता है कि आगे की गाड़ी कैसे चलेगी?
घर का मुखिया अपनी अरिजीत कमाई को परिवार का पेट भरने में लगा रहा है| जेब से हर दिन कुछ ना कुछ निकलकर खर्च हो रहा है| जबकि, उसकी भरपाई का कोई रास्ता दिखाई नहीं दे रहा| विद्यार्थियों का अलग ही दौर चल रहा है जहां दिन भर मोबाइल फोन से सेट करो समय बिताया जाता है | इसमें कुछ देर ऑनलाइन क्लास चलती है और बाकी का वक्त ऑनलाइन गेम खेलने में गुजर रहा है|आर्थिक कमजोरी धीरे-धीरे मानसिक और शारीरिक तौर पर भी कमजोर करने लगती है|पैसा सब कुछ नहीं होता लेकिन पैसा बहुत कुछ होता है  |ऐसे में गाड़ी को पटरी पर लाने के लिए कामकाज और आय को भी पटरी पर लाना पड़ेगा|

You are reading essay on lifestyle in lockdown

विद्यार्थियों को आत्मा अनुशासन का पालन करते हुए हर दिन कुछ नया सीखने की कोशिश करनी होगी|दिन जिस तरह से तेजी से गुजर रहा है ऐसे में समय को बर्बाद करना उनके आने वाले भविष्य के लिए परेशानी पैदा कर सकता है| इंटरनेट और तकनीकी का सही तरीके से इस्तेमाल आपको पूरी तरह से बेहतर बना सकता है|लेकिन ,इसमें भी अनुशासन काफी जरूरी है|

कोरोनावायरस का खतरा कब तक रहेगा कहा नहीं जा सकता लेकिन जितनी जल्दी हम इस से लड़ना सीख जाएंगे हमारे लिए बेहतर होगा|इस तरह से हाथ पर हाथ रखकर हम बैठ नहीं सकते इसीलिए, जिंदगी के हिस्से में कोरोनावायरस को जोड़कर नए तरीके से शुरुआत करनी होगी|परेशानियों में भी संभावनाओं को ढूंढा जा सकता है| हमेशा कोई ना कोई रास्ता जरूर खुला होता है|कई बार हमें रास्ते बनाने भी पढ़ते हैं इसीलिए थोड़ा सा धैर्य रखकर समस्या में सुधार खोजना होगा|

Thank you for reading 



 Also, read English Translation of the above article

Even with the corona, even after the corona

(translated article)

We are going through a phase where we have to face a lot despite not wanting to. Coronavirus is not just a disease, it has come before us as a disaster. It has an impact on our health, education as well as our economic, educational, and social environment. We can avoid this virus by following the safety rules and precautions. But the damage in other areas is troubling us a lot.

Every day, about 50% of the households have a rusted war between their stomachs and their pockets. There are millions of people in the country whose source of employment and income has been exhausted. But still, the hunger is not over. Governments are making various arrangements, but many people do not appear in the list of that arrangement. The problem is not only that much more than this. Gradually, people sitting quietly are becoming mentally weak. There is no longer any place for positivity. In this way, it becomes necessary to think and understand how the train ahead will run? The head of the household is putting his earnings to feed the family. Everyday something is being spent out of pocket. However, there is no way to compensate for it.

you are reading a translated article

There is a different phase of students, where time is spent throughout the day set up with a mobile phone, an online class is run for some time and the rest of the time is spent playing online games. Economic weakness gradually starts to weaken mentally and physically as well. Money is not everything but money is a lot. V In such a situation, work and income will also have to be brought back on track. Students will have to try to learn something new every day by following the spiritual discipline. In the way the day is passing fast, wasting time can create problems for their future. Using the Internet and technology properly can make you completely better.

But, discipline is also very important in this. How long the threat of coronavirus will not be said, but the sooner we learn to fight it, the better it will be for us. In this way, we cannot sit with our hands on it, therefore, by adding coronavirus to the life part, we have to start in a new way. Possibilities can be found even in problems. There is always some way open. Many times we have to study to make paths, that is why we have to find a little patience and improve the problem.

Thank you for reading Coronavirus and lifestyles - Hindi 


Previous
Next Post »

No comments:

Post a Comment

Thank you for reading. Stay tuned for more writeups.